Join us on Telegram

Join Now

Join us on You tube

Join Now

Ayodhya Ram Mandir update: आखिर कौन सी पुजारी ने करवाई थी पूजा,Modi ने क्या दिया दक्षिणा में।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार के दिन प्राण प्रतिष्ठा की और उसके बाद आज मंगलवार को आम श्रद्धालुओं के लिए मंदिर खोल दिया गया है और बड़ी संख्या में श्रद्धालु सुबह से ही मंदिर के दर्शन करने पहुँच रहे हैं और गृह में जाकर के बाल स्वरूप भगवान श्रीराम के दर्शन कर रहे हैं सोमवार को पूजा के बाद भगवान राम के दर्शन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी पुजारियों को दक्षिणा भी दी और इस दौरान उन्होंने भगवान प्रभु श्रीराम को दंडवत प्रणाम कर के गर्भगृह से बाहर निकलें और अपने व्रत का समापन किया।

ओर इस दौरान उन्होंने पीतांबरी धोती और इसके अलावा कुछ कैश पैसे पुजारियों को दिए पुजारियों के बारे में आपको बता दें कि महाराष्ट्र के प्रसिद्ध पंडित लक्ष्मी कांत दीक्षित ने इस पूजा को कराया था और इस पूरे अनुष्ठान के दौरान एक सौ इक्कीस पुजारी मौजूद थे, जिन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पूजा कराई अब ऐसे में सवाल ये भी है और एक बात सब लोग जानना भी चाहते हैं कि प्रधानमंत्री ने प्राण प्रतिष्ठा के बाद पुजारियों को दक्षिणा में क्या दक्षिणा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक जगह।

इसे भी पड़े Reet New Vacancy 2024: Online आवेदन करें: यहां देखें कि रीट भर्ती 2024 में कब होगी,

संकल्प करते हैं तो वे अपनी जेब से लाख रुपये की गड्डी हाथ में रखते हैं जो कि कैमरे में कैद भी हुई और उसके बाद उन्होंने पीतांबरी धोती और कुछ पैसे दक्षिणा में सभी पुजारियों को अपने हाथों से दिए बताया जा रहा है कि करीब एक लाख रुपए की जो गद्दी थी सौ रुपए की नोटों की वो मुख्य पुजारी को दिए गए और उसके बाद अन्य जो पुजारी एक सौ इक्कीस थे, उनको कुछ दक्षिणा और इसके अलावा पीतांबरी।

मोती के साथ उन्हें ससम्मान विदा किया गया आपको बता दें कि मुख मंदिर के गर्भगृह में लक्ष्मीकांत दीक्षित समेत पांच लोग भी मौजूद थे लक्ष्मी कांत दीक्षित मूलरूप से महाराष्ट्र के सोलापुर जिले के रहने वाले हैं और कई पीढ़ियों से उनका परिवार काशी में रह रहा है उनके पूर्वजों ने नागपुर और नासिक रियासतों में भी कई धार्मिक अनुष्ठान कराए हैं और लक्ष्मी वाराणसी के मीरघाट स्थित संघ विश्वविद्यालय में वरीष्ठ आचार्य है।

अंगद महा विद्यालय की स्थापना काशी नरेश ने की थी और लक्ष्मीकांत पंडित गिने हुए काशी के आयुर्वेद के अच्छे विद्वानों में से उनकी गिनती होती है उन्हें वेद और अनुष्ठानों की दीक्षा उनके चाचा गणेश दीक्षित ने दी थी और इसीलिए उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भगवान श्रीराम की विशेष पूजा और प्रतिष्ठा के दौरान उन्हें बुलाया था ।

You might also check these ralated posts.....

Leave a comment