Join us on Telegram

Join Now

Join us on You tube

Join Now

Ayodhya Ram Mandir update:प्राण प्रतिष्ठा में आखिर भगवान श्री राम की मूर्ति काली क्यों थी?

पांच सौ साल की लंबे इंतजार के बाद सोमवार को वो दिन आ ही गया जब रामलला अयोध्या में ही अपनी नव निर्मित घर में राम मंदिर में विराजमान हो गए जनवरी को शुभ मुहूर्त में रामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा के लिए विशेष मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 29 मिनिट और आठ सेकंड से लेकर 12 बजकर 30 मिनट और 32 सेकंड तक निर्धारित था ।

वहीं प्राण प्रतिष्ठा की पूजा के दौरान भगवान राम की मूर्ति की तस्वीर भी सामने आई है, जिसमें वे बाल स्वरूप में श्यामल पत्थर से तैयार नजर आ रहे हैं ऐसे में कई लोगों के मन में यह सवाल है कि आखिर रामलला की मूर्ति काली या फिर श्यामल क्यों है ? ज़ाहिर तौर पर रामलला की मूर्ति बेहद ही खूबसूरत है इस मूर्ति में राम लला माथे पर तिलक लगाए बेहद सौम्य मुद्रा में नजर आ रहे हैं

रामलला के चेहरे पर भक्तों का मन मोह लेने वाली मुस्कान नजर आ रही है इनकी मूर्ति का निर्माण श्याम शिला से हुआ है, जिसका रंग काला होता है इसी वजह से रामलला की मूर्ति शाम शीला हैं इस काले पत्थर को कृष्णशिला भी कहा जाता है शास्त्रों में जिंस कृष्णशिला से रामलला की मूर्ति का निर्माण हुआ उससे बेहद खास माना जाता है, जिससे शाम शीला सी भगवान राम की मूर्ति बनाई गयी उसकी आयु हजारों सालों में है

मूर्ति को जल से कोई नुकसान नहीं होता इसके साथ ही कहा जा रहा है कि चंदन, रोली आदि लगाने से भी मूर्ति पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा रामलला की मूर्ति में पांच साल की बालक की कोमलता साफ झलक रही है इस मूर्ति में बाल साथ देवत्व और एक राजकुमार तीनों की छवि दिखाई दे रही है मूर्ति का वजन करीब दो सौ किलोग्राम है इसकी कुल उचाई चार दशमलव दो चार फिट जबकि चौड़ाई तीन फिट है। ऐसी खबर के लिए आप हमारे ग्रुप को जॉइन कर सकते है।

You might also check these ralated posts.....

Leave a comment